CREATIVE

DILLI KI KAHANI

Written by Editorial Board

निकले थे राजीव चौक से अपनी मंज़िल पाने को,
पर भीड बहुत थी मेरे साथ
यूँ हीं वे कहीं पर जाने को |

थे साथ मेरे वो कई लोग जो ना दुश्मन
और ना ही दोस्त.!
कुछ कोलाहल ऑफीस वालों का,
कुछ कर्कश ध्वनि हसीनों की
कुछ महक वहाँ थी डेनिम की गर
खुश्बू भी खून-पसीनो की |

सब अपनी धुन में चलते थे
जब भी दरवाजे खुलते थे
धक्के तो जाम के लगते थे
फिर भी ना कदम ठहरते थे

है डर भी उनके अंदर…,
माथे पर शिकन भी आनी है
पर इतना भी भूलों ना तुम
मंज़िल तो मिल ही जानी है
दिल्ली की यही कहानी है !

दिल्ली की यही कहानी है !

-Deepank Deo, 4th Year student of SNU

About the author

Editorial Board

Leave a Comment